आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे One Time Password या OTP क्या है ? और ये कैसा काम करता है। यह एक temporary password होता है जिसकी वैधता बहुत कम समय के लिए होती है। इसके चलन ने हमारे digital account की security को और भी ज्यादा बड़ा दिया है।

शायद ही कोई हो जिसने OTP के नाम को आज पहली बार सुना है। OTP का इस्तेमाल हम कभी-कभी तो दिन में कई बार भी कर लेते है। लेकिन क्या आपने कभी जानने की कोशिश की है की आखिर OTP है क्या? और यह अपने काम को कैसे बखूबी अंजाम देता है।

चलिए फिर आज हम आपको OTP के बारे में विस्तार से बताते है आखिर ओटीपी क्या है ?

ओटीपी क्या है

OTP क्या है?

OTP जिसका विस्तार रूप One Time Password है। यह एक temporary password होता है जिसकी वैधता बहुत कम समय के लिए होती है और हम इसे two factor authentication के नाम से भी जानते है ।

OTP प्राप्त करने के लिए रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर तथा रजिस्टर्ड ईमेल आईडी का होना बहुत जरूरी है। क्यूंकि इंटरनेट fraudsters से बचने के लिए अकाउंट reverify करता है की कही यह कोई और तो नहीं जो डिजिटल अकाउंट में सेंध लगा रहा है।

OTP एक तरह से डबल लेयर गेटवे का काम करता है। इसका मतलब आप सिर्फ username और Password की सहातया से डिजिटल अकाउंट को एक्सेस नही कर सकते। आपको अपने अकाउंट को लॉगिन करने के लिए एक ओर लेयर से गुजरना होगा जिसे two factor authentication कहते है।

इसमें आपको अपने पर्सनल डिवाइस पर एक कोड प्राप्त होगा जिसे OTP कहते है। अब OTP की सहायता से अपने डिजिटल अकाउंट को लॉगिन करने में सक्षम हो जाओगे।

OTP काम कैसे करता है?

बहुत से वेब applications ने अपनी सिक्योरिटी को बड़ाने के लिए एक और लेयर तैयार की है जिस से गुजरना होगा। जिसे two factor authentication कहते है। इसमें आपको अपनी digital account को लॉगिन करने के लिए सिर्फ username और Password ही काफ़ी नहीं है।

आपको इसके बाद एक ओर स्टेज से गुजरना होगा इसमें आपको अपने registered phone number या फिर registered email आईडी पर एक पासवर्ड प्राप्त होगा जिसे input करने के बाद ही आप अपने account को login कर सकते है।

Two factor authentication को करने के दो तरीके है –

  • SMS बेस्ड
  • TOTP बेस्ड

SMS बेस्ड इस मैथड में यूजर को एक पासवर्ड SMS की सहायता से प्राप्त होगा। जब भी कोई यूजर अपने अकाउंट को लॉगिन करता है तो उसे एक पासवर्ड प्राप्त होगा। जिसकी अवधि लगभग एक मिनट होती है,

अगर आप लिमिट से ज्यादा देर लगाते है तो आपका OTP expired हो जायेगा। ओर आपको अकाउंट लॉगिन करने के लिए एक बार फिर से OTP request सेंड करनी होगी।

जैसे की हम जब भी ऑनलाइन बैंकिंग करते है तो money transfer से पहले आपको एक कोड प्राप्त होता है। आप इस कोड को डालने के बाद ही money transfer कर सकते है।

TOTP बेस्ड इसका विस्तार रूप Time Based One Time Password है। इस मैथड में यूजर को qr code या फिर कोई अन्य कोड अपने रजिस्टर्ड डिवाइस पर प्राप्त होगा । इस मैथड की विशेषता यह है की यह कोड को यूजर साइड जेनरेट करता है। जिससे की user को sms का इंतजार भी नही करना होता और काम जल्दी हो जाता है।

जैसे की आपने ध्यान दिया होगा की जब हम Gmail account को लॉगिन करते है तो आपको अपने मोबाइल फोन की स्क्रीन पर एक नोटिफिकेशन प्राप्त होगा जिसपर क्लिक करने के बाद आपको दो अंकों के कोड प्राप्त होंगे।

अगर आप सही कोड को क्लिक करते है तो आपका अकाउंट login हो जायेगा वगरना गलतकोड पर क्लिक करने पर आपका अकाउंट लॉगिन नहीं होगा।

OTP की तरह इसमें भी कोड एक छोटी अवधि के बाद दोबारा से चेंज हो जाते है।

OTP के फायदे क्या है ?

OTP डिजिटल अकाउंट और ऑनलाइन बैंकिंग जैसी सुविधा को secure करता है। क्यूंकि जब भी ही ऑनलाइन बैंकिंग या डिजिटल अकाउंट लॉगिन करते है तो बहुत से application OTP verify करते है, जिससे application को confirm हो जाता है कि यूजर की आईडी वेरिफाई हो गई है।

OTP के कुछ फायदों के बारे में हम जानते है–

  • OTP सिर्फ registered email या रजिस्टर्ड फोन नंबर पर ही प्राप्त होता है, जिससे हैकर्स को इसका पता लगाना आसान नहीं होता।
  • OTP की वैधता बहुत कम समय के लिए होती है तथा स्टेबल पासवर्ड की वैधता जीवनभर तक भी हो सकती है।
  • OTP से ऑनलाइन बैंकिंग की दुनिया में fraud case पर कुछ हद तक लगाम लगी है।
  • यह यूजर की पहचान को रेवरीफाई करता है।

निष्कर्ष

जैसा की हमने जाना की OTP user की आईडी को रेवरिफाई करने का काम करता है। इससे हम digitally और भी secure हो जाते है। क्यूंकि OTP हम सिर्फ registered e-mail id और registered मोबाइल नंबर पर ही प्राप्त होता है। तथा इसकी वैधता बहुत कम समय के लिए होती है।

उम्मीद करता हूं कि आपकी मेरा यह आर्टिकल पसंद आया होगा ओर आपकी पूरी जानकारी मिल गई होगी।

Categories: Tech Update

0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *